Monday, 26 September 2016

कैसे कमाएं और बचाएं - How to Earn, Save, Profit & Invest Rupees - Tips





  • सर्प्रथम आपकी Saving ही आपकी इनकम बन सकती है, कितना कमातें है इससे अधिक महत्वपूर्ण है की आप Saving कितना करते है. एक महान व्यक्ति ने यह कहा है की खर्च करने के बाद के पैसों को Save नहीं करना चाहिए बल्कि  बचत करने के बाद जो पैसें बचे उसे को ही खर्च (Expanse) करें.
  • फिजूलखर्ची (Over Expenses) बिलकुल न करें लेकिन अत्यधिक कंजूसी भी सही नहीं. पूरी दुनिया आजकल क्रेडिट की जिन्दगी पर बड़ा विश्वास कर रही है, "अरे New Product आया इसे Loan पर Purchase कर लेते है पैसे तो EMI से देते रहेंगे." यह गलत है.   हमेशा आवश्यकता की ही वस्तु को खरीदें. लोन के लालच में आकर व्यर्थ पैसा बर्बाद न करें.
  • बचत को केवल Bank में रख देना ही बुद्धिमानी नहीं है उसे सही स्थान पर Invest करना ही उत्तम विकल्प है.
  • अपनी प्रतिमाह की कमाई का कम से कम 3-4 गुना कैश अवश्य किसी भी आपातकालीन परिस्थिति के लिए अलग से रखें.
  • निवेश के लिए प्रतिमाह Mutual Fund - SIP एक अच्छा और बेहतर विकल्प माना जा सकता है, इसके अलावा शेयर, बांड्स, फिक्स डिपोजिट और समय समय पर सरकार द्वारा अनेक योजनायें से भी लाभ प्राप्त कर सकतें है.
  • हमेशा अपनी Income को ही बढ़ाएं न की Expenses को.
  • जीवन बीमा केवल एक अत्यंत जरुरी साधन है रिस्क से बचने का और बचत तथा  Tax Rebate का एक विकल्प भी, लेकिन कभी भी इसे Investment न समझें.
  • कोई भी मशीन, दुकान या जगह जो की प्रतिमाह बढ़िया किराया कमा सकती हो उसमे Invest करें.
  • केवल एक ही  Income के भरोसे न रहें और भी रास्ते तलाशें. यदि आप नौकरी करते है तो और भी तरीके खोजें Earning करने के.
  •  स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही कभी न करें क्योकि यदि सबकुछ है और स्वास्थ्य ही नहीं है तो सबकुछ व्यर्थ है.
  •  सभी स्त्रियों को खरीरदारी का अत्यंत शौक होता है तो इसके समाधान है Gold Items और सिल्वर आइटम्स को खरीदना.
  • सिर्फ बाहर से अच्छे कपडे पहनलेने से या पैसा खर्च कर लेने से कोई भी अमीर नहीं हो जाता उसे अन्दर से भी उतना ही ठोस होना जरुरी है.
  •  "दुनिया का सारा पैसा केवल में ही कमा लूँ और कोई भी न कमाएं" - ऐसा कभी नहीं हो सकता, संसार की किसी भी वस्तु पर किसी एक का हक़ नहीं हो सकता, हर चीज बटती है अर्थात् अपने किसी Business या कार्य में आवश्यकता पड़ने पर नीचे स्टाफ या काम को करने वाले जरुर रखें, अगर कोई सोचे की सारा काम केवल में ही कर लूँ क्यों किसी भी स्टाफ या वर्कर को न  रखूं तो वह व्यक्ति अकेले कभी भी अपने व्यापार का बढ़ा नहीं सकता, उसे अपने Profit को तो बाँटना ही पड़ेगा.
  •  अपने खाली Time का पूरा उपयोग लेवें, कुछ नया और सबसे पहले सोचें तथा उसे क्रियान्वित भी अवश्य करें.
  •  कोई भी Businessman तब लाभ नहीं कमाता जब वह किसी वस्तु को बेचता है, वह Profit तो तभी कमा लेता है जब वह किसी भी वस्तु को खरीद रहा होता है अर्थात आप किसी भी जमीन, मकान या कोई भी बिज़नेस में Loss or Profit उसी समय निर्धारित कर लेतें है जब उस वस्तु को आप कम मूल्य पर खरीद रहें होते है.
  •  अगर आप बिज़नेसमेन न भी हो तो भी जमीन, दुकान या मकान में Invest बड़े ही सोचसमझ कर और अनुभवी व्यक्ति से सलाह करने के बाद ही करें, यह आपको बहुत अच्छा Profit दे सकता है.
  • Thursday, 22 September 2016

    BEST PART TIME JOB

    BEST PART TIME JOB, AAJ KE KAAM KE PAISE AGALE HI DIN AAPKE A/C ME,. rs50 से 1000/-रूपये तक रोज कमाये। socialtrade.biz open करे। signup पर क्लिक करे। एक फॉर्म ओपन होगा। उस फॉर्म में अपना डिटेल भरना है। sponso id के जगह  61354443 डालना है। side right डालना है। उसके बाद terms and conditions पर टिक करना है। submit बटन क्लिक करे। आपका रजिस्ट्रेसन पूरा हुआ
    अब Neft करे Account Holder Name ABLAZE INFO SOLUTIONS PRIVATE LIMITED
    Bank Name AXIS BANK
    Branch Name RDC - Rajnagar, Ghaziabad, UP
    Account Number 915020024019456
    IFSC Code UTIB0001082 अब signin करे । activate now को click करे। NEFT details भरे। अगले 24 घंटे में आपकी id activate हो जाएगी। और ज्यादा जानकारी के लिए whatsapp करे no - 9977385591,. रजिस्ट्रेशन के बाद कुछ जरूरी जानकारी के लिए whatsapp जरूर करे no-9977385591


    For full social Trade business plan
    Watch video



    Wednesday, 21 September 2016

    CNG स्टेशन खोलने का मौका, लाखों में कमाई के लिए इन पर रखें नजर


    आपके लिए सीएनजी पंप खोलने का मौका है। देश की प्रमुख कंपनियां बढ़ती डिमांड को देखते हुए अपने नेटवर्क का एक्सपेंशन कर रही हैं। ऐसे में आप इन कंपनियों के डिस्ट्रीब्यूटर बन सीएनजी स्टेशन खोल सकते हैं। इसके अलावा कंपनियों को जमीन आप लीज पर भी दे सकते हैं। जिसके जरिए आपको लाखों रुपए हर महीने की कमाई होगी।
    GAIL के साथ है टाईअप
     
    गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड ने देश में सीएनजी डिस्ट्रीब्यूशन के लिए विभन्न कंपनियों के साथ ज्वांइट वेंचर बनाया है। कंपनी इसके तहत दिल्ली, हरियाणा,महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात, आंध्रप्रदेश, त्रिपुरा आदि में गैस की सप्लाई करती है। देश में सीएनजी डिस्ट्रीब्यूशन के लिए ये कंपनियां सप्लाई करती है..
    1. इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड
    2. महाराष्ट्र नेचुरल गैस लिमिटेड
    3. सेंट्रल यू.पी. गैस लिमिटेड
    4. ग्रीन गैस लिमिटेड
    5. महाराष्ट्र गैस लिमिटेड
    6. गेल गैस लिमिटेड
    7. वड़ोदरा गैस लिमिटेड

    दो तरह से कर सकते हैं कमाई
     
    सीएनजी पंप लगाने के लिए सबसे पहले कंपनियां जमीन की डिमांड करती है। कंपनियां जमीन लीज पर लेती है। ऐसे में आपके पास पहली कमाई का मौका जमीन को लीज पर देकर मिलेगा। दूसरा तरीका आप जमीन पर खुद ही डीलरशिप ले सकते हैं। इसके लिए कंपनियां पार्टनरशिप करती है। जिसे वह लैंडलिंक सीएनजी स्टेशन पॉलिसी कहती है।
    .सभी कंपनियां अपनी जरूरत के अनुसार स्टेशन के लिए टेंडर निकालती है। जिसमें लोकेशन सहित दूसरी रिक्वॉयरमेंट दी जाती है। जिसके आधार पर आप आवेदन कर सकते हैं। टेंडर के लिए इन कंपनियों की वेबसाइट पर जानकारी ली जा सकती है।

    जमीन के लिए कंपनियों की ये होती है शर्त
    1. कंपनियां हल्के वाहन, भारी कमर्शियल वाहन के आधार पर जमीन की डिमांड करती है।
    2. हल्के वाहन के लिए 700 वर्गमीटर की जमीन होनी चाहिए। जिसमें फ्रंट स्पेस करीब 25 मीटर को होना जरूरी है।
    3. वहीं ट्रांसपोर्ट व्हीकल की जरूरत को देखते हुए 1500-1600 वर्गमीटर की जमीन होनी चाहिए। जिसमें फ्रंट स्पेस करीब 50-60 मीटर को होना जरूरी है।
    4. इसके अलावा हाईवे और भीड़-भाड़ इलाकों में जमीन होने पर कंपनियां एप्लीकेंट को तरजीह देती हैं।

    इन्वेस्टमेंट में इन बातों का रखा ध्यान
     
    . सीएनजी पंप खोलने के लिए आपको जमीन की लागत के साथ, दूसरी लागत का भी ध्यान रखना होगा।
    . इसके अलाव इक्वीपमेंट, इम्प्लाई कॉस्ट, कंस्ट्रक्शन कॉस्ट, लाइसेंस फीस भी अहम होती है।
    . ऐसे में कुल मिलाकर करीब 1 करोड़ रुपए का खर्च आता है।
    . जिसके लिए बैंक लोन भी देते हैं।

    Tuesday, 20 September 2016

    मोबाईल का लॉक खोले पैसे कमाए | 50 rs. Daily


    दोस्तो स्लाईड एक एन्डरॉईड एप हे जो मोबाईल  का लॉक खोलने पर पैसे देती हे इस  एप को डाउन्लोड करे अौर रजिस्टर करे उसके बाद जैसे-जैसे अाप लॉक खोलोगे पैसे अापके स्लाईड अकाउंट मे अाते जाएंगे यह इन्वाइट पर भी पैसे देता हे

    इस एप को डाउनलोड करने के लिये यहाँ क्लिक करे

    Download now-

    https://42.slde.io/ca989075

    शिक्षकों के लिए पार्ट टाइम बिजनेस आइडिया

    टीचिंग को सबसे अच्‍छी नौकरियों में से एक माना जाता है। हर किसी के जीवन में शिक्षक एक महान व्‍यक्ति होता है जो उसमें ज्ञान की नींव रखता है और हर पर बड़ा प्रभाव छोड़ता है। आज हम इस आर्टिकल में शिक्षकों के लिए पार्ट टाइम नौकरियों को बता रहे हैं जो उनके लिए काफी बेहतर हो सकती हैं।

    शिक्षकों के लिए ऑफलाइन यानी घर बैठे काम:

    1. ट्यूशन

    शिक्षक चाहें तो बैच लगाकर पढ़ा सकते हैं या फिर बच्‍चों को होम ट्यूशन दे सकते हैं। इससे अच्‍छी-खासी आमदनी हो जाती है। इसके लिए शिक्षक अपने विषय को ही अपनी ढाल बनाएं और उसी विषय की ट्यूशन दें।

    2. कॉपियां जांचना

    शिक्षक साइड वर्क के तौर पर बड़े क्‍लास जैसे- बी.ए. बी.कॉम आदि की कॉपियों को जांच सकते हैं। इससे उन्‍हें प्रति कॉपी के अंकन के हिसाब से रूपए मिलते हैं। बोर्ड परीक्षा की कॉपियों को भी जांचकर पैसे कमाएं जा सकते हैं।

    3.समर कैम्‍प

    इन दिनों समर कैम्‍प की लोकप्रियता बढ़ती जा रही है। कई शिक्षक अपनी जिम्‍मेदारी पर समर कैम्‍प का अच्‍छी तरह आयोजन करवाते हैं और उसके लिए बच्‍चों से फीस लेते हैं। इस तरह, यह आय में भी बढ़ोत्‍तरी करता है और पैर्टन जॉब से हटकर काम भी हो जाता है।

    4. सॉफ्ट स्किल ट्रेनिंग

    हर किसी के जीवन में सॉफ्ट स्किल एक महत्‍वपूर्ण स्‍थान रखता है। अच्‍छी नौकरी पाने के लिए, सिर्फ मार्क्स ही नहीं बल्कि पर्सनालिटी भी चाहिए होती है, ऐसे में सॉफ्ट स्किल के अंर्तगत बातचीत, सही से उत्‍तर देने का ढंग, साक्षात्‍कार देने का तरीका आदि सिखाया जाता है।

    शिक्षकों के लिए क्रिएटिव ऑनलाइन बिजनेस आईडिया पढ़ें स्लाइडर में-

       

    डिस्‍कवरी

    आजकल शोध में काफी पैसा है। आपको जिस विषय में रूचि हों, उस पर अपनी फाईडिंग्‍स को निकालें और प्रॉपर रिसर्च के बाद उसे पब्लिश करवाएं। किसी भी तरह की डिस्‍कवरी को मार्केट में जगह मिल सकती है बस वह बच्‍चों के हित में होनी चाहिए। इसमें समय और समर्पण दोनों की आवश्‍यकता होती है, जो कि एक शिक्षक ही कर सकता है।

       

    केस स्‍टडी पोर्टल

    भारतीय शिक्षा प्रणाली में केस स्‍टडी का अह्म स्‍थान है। केस स्‍टडी करके शिक्षक काफी पैसा कमा सकते हैं। इसके लिए ज्ञान होना अति आवश्‍यक होता है ताकि छात्रों को गलत जानकारी न दी जाएं।

       

    ऑनलाइन ट्यूशन

    आजकल हर काम ही तरह ऑनलाइन ट्यूशन का भी काफी जोर है। इसमें स्‍काइप आदि के माध्‍यम से बच्‍चों को ऑनलाइन ट्यूशन पढ़ाई जा सकती है। इसके लिए काफी अच्‍छी सैलरी भी मिलती है।

       

    महत्‍वपूर्ण विषयों पर ब्‍लॉग

    विषय से जुड़े टॉपिक पर ब्‍लॅाग को अच्‍छे से लिखकर भी काफी पैसे कमाएं जा सकते हैं। इन दिनों बच्‍चे भी टीचर्स से पए़ने की बजाय इंटरनेट पर ज्‍यादा पढ़ते हैं ऐेसे में आप अपने तरीके से विषय के बारे में लिखें, जिसे बच्‍चे पढ़ेंगे और इससे आपको धनराशि मिलेगी। लेकिन इसके लिए कम्‍प्‍यूटर, इंटरनेट और ब्‍लॉग के बारे में जानकारी होना आवश्‍यक है।

       

    संक्ष‍िप्त पाठ्यक्रम

    किसी भी विषय को क्लास में पढ़ते समय बच्चे बोरियत महसूस करते हैं, लेकिन अगर आप क्रिएटिव ढंग से किसी विषय पर कोई पाठ्यक्रम तैयार करते हैं और उसे वीडियो के जरिये इंटरनेट पर डालते हैं, तो आपको यूटयूब से अच्छी आमदनी हो सकती है।

       

    ऑनलाइन ट्रांसलेशन

    कोई भी टीचर जिसकी भाषा पर पकड़ अच्छी है, वह इंटरनेट के जरिये ट्रांसलेशन यानी अनुवाद के प्रोजेक्ट्स के माध्यम से पैसा कमा सकते हैं।

    Poultry Feed Mill Business Kaise Start Kare

    हालांकि Poultry feed mill business को देश के किसी भी कोने से चलाना बेहद कठिन है | क्योंकि शुरुआत में यह Location Specific है | Location Specific से हमारा आशय जगह विशेष से है | एक लाभकारी Poultry Feed Mill Business करने के लिए उद्यमी को Plant उस जगह पर लगाना आवश्यक है, जहाँ Poultry Farms की मात्रा अधिक हों | ताकि वह शुरुआत में विभिन्न खर्चों परिवहन, मार्केटिंग इत्यादि से बच सके | और अपने Poultry feed Mill द्वारा उत्पादित Feed को आस पास के ही Farms मालिकों को बेच सके | कृषि आधारित चाहे कोई भी Business हो इनमें अच्छे ढंग से कमाई तभी की जा सकती है जब उद्यमी अपने business को Scientific और Professional तरीके से करे | इसलिए उद्यमी को अपना Poultry Feed Mill सफलतापूर्वक चलाने के लिए सभी रास्तों का पता होना अति आवश्यक है | वैसे तो हर प्रकार का business करने के लिए उद्यमी का धीर, गंभीर होना अति आवश्यक है | ताकि यदि किया गया बिज़नेस मनमुताबिक परिणाम लेके नहीं आता है, तो उद्यमी धैर्य रखकर गंभीरता से इसका विश्लेषण करके इससे निबटने का कोई समाधान निकाल सके | लेकिन Poultry Feed Mill का business करने के लिए उद्यमी का सिर्फ धीर गंभीर बनके ही काम नहीं चलेगा | क्योंकि यह business पक्षियों के सेहत और Growth से जुड़ा हुआ बिज़नेस है | इसलिए उद्यमी   को अनाज में पोषक तत्वों की जानकारी होना बेहद जरुरी है | ताकि वह अपनी Poultry feed mill में एक अच्छे गुणवत्ता वाले Feed का उत्पादन कर सके | अच्छे गुणवत्ता से अभिप्राय Birds का जल्दी विकास होने से है | अगर उद्यमी के mill द्वारा उत्पादित Feed से पक्षियों  का विकास नहीं होगा तो ग्राहकों को बनाये रखना एक चुनौती हो सकती है | इसके अलावा यदि उद्यमी द्वारा Feed उत्पादन करते समय कोई Grain अधिक और कम हो गया, अर्थात एक अच्छा मिश्रण तैयार नहीं हुआ तो, उद्यमी को Poultry Feed mill business में नकारात्मक  दूरगामी परिणामों का सामना करना पड़ सकता है | क्योकि इस तरह का Feed खाकर Birds की वृद्धि रूक सकती है, या फिर यह खाना पक्षियों को नुकसान पहुंचा सकता है | इसलिए बेहद जरुरी हो जाता है, की Poultry Feed Mill स्थापित करने से पहले इस business को करने की Proper Training ली जाय |

    Poultry Feed business kya hai:

    Poultry feed का अर्थ सामन्यतया मुर्गी, बत्तख, कबूतर, बटेर इत्यादि के पालन हेतु खाने के उत्पादन से लगाया जाता है | इस Feed को इस तरह से तैयार किया जाता है की पक्षियों के विकास को एक निश्चित समय के हिसाब से मापा जा सकता है | और Poultry Feed business का अर्थ इस Feed को बेचकर Kamai करने से लगाया जा सकता है | प्राचीनकाल में लोगो द्वारा घरेलु पक्षियों का पालन अपनी आवश्यकता अर्थात अपना पेट भरने के लिए किया जाता था | तब किसी प्रकार की Poultry Feed की आवश्यकता नहीं पड़ती थी क्योकि लोग पक्षियों को चुगने के लिए खुले में छोड़ देते थे | या फिर अपने खेतों में उत्पादित कोई अनाज उन्हें दे दिया करते थे | लेकिन जब से मुर्गी पालन या अन्य पक्षियों के पालन ने व्यवसायिक रूप लिया है, तब से पक्षियों का विकास एक निश्चित समय के अंतर्गत करने हेतु पोल्ट्री Farmers को Poultry Feed की आवश्यकता पड़ी | व्यवसायिक Poultry feed में प्रोटीन, मिनरल, विटामिन्स इत्यादि की भरपूर मात्रा होने के कारण पक्षियों का विकास एक निश्चित समयावधि में हो जाता है |
    Poultry feed mill business को Start करने के लिए जिन जिन मुख्य स्टेप का अनुसरण किया जाना जरुरी है, उनका विवरण हम नीचे दे रहे हैं |
    Poultry-feed-business-starting-process

    Research For poultry feed mill

    Research जो मुख्य बिंदु पर होनी चाहिए, वह यह है की आपके क्षेत्र में Poultry Farm की कितनी संख्या है | और उन सभी छोटे बड़े Farms में Birds की संख्या क्या है | इन फार्मों के मालिक वर्तमान में कहाँ से और कैसा Poultry feed खरीदते हैं | क्या Feed खरीदते समय वे किसी प्रकार का परिवहन शुल्क feed supplier को देते हैं, या फिर खुद ही वहन करते हैं | एक Poultry farm का Owner  उद्यमी से एक महीने में कितना Feed खरीद पायेगा और क्यों? इन सब बातों पर गौर करके और इनका विश्लेषण करके उद्यमी अपने भावी Poultry Feed Mill Business की स्पष्ट तस्वीर देख पायेगा | इस तस्वीर को केंद्र बिंदु मानकर उद्यमी निर्णय ले सकता हैं की उसके लिए यह business कितना लाभप्रद या नुकसान देह होगा |

    Training Important hai:

    जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं Poultry Feed का उत्पादन करना बेहद Specific स्किल वाला काम है | इसलिए इसके बारे में पूरी जानकारी और Manufacturing Process का पूर्ण रूप से पता होना नितांत आवश्यक है | इस आवश्यकता को पूर्ण करने हेतु उद्यमी किसी पक्षी अनुसन्धान केंद्र या अन्य किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से Training ले सकता है | इसके अलावा इस उद्यम से जुड़ने वाले उद्यमी को ऐसे लोग तलाश करने चाहिए जो पहले से Poultry Feed mill business चला रहे हों, क्योकि उनके द्वारा दी गई  सलाह और जानकारी उद्यमी के बहुत काम आएगी |

    Create Business Plan

    इस Business के लिए Training के बाद जो सबसे Important स्टेप है, वह है Poultry Feed Mill के लिए Business Plan बनाना | यदि किसी उद्यमी के पास एक अच्छा Business Plan नहीं हुआ तो सच्चाई यह है, की उस उद्यमी को अपना business चलाने और बढ़ाने के लिए बहुत तगड़ा संघर्ष करना पड़ सकता है | और हो सकता है की इसी संघर्ष से तंग आकर उद्यमी इस business से तौबा तौबा करने की ठान ले | इसलिए Poultry Feed Mill business को सफलतापूर्वक चलाना और बढ़ाना है, तो एक प्रभावी Business Plan तो बनाना ही चाहिए |

    Business Registration and License:

    अब यदि उद्यमी Poultry Feed Plant स्थापित करने की ठान ही चूका है, तो अब उसको अपने Business को Register कराने की आवश्यकता होगी | और एक Poultry Feed Plant को स्थापित करने के लिए License की भी आवश्यकता होती है | इसलिए उद्यमी को लाइसेंस भी लेना होगा | यहाँ पर ध्यान देने वाली बात यह है की business registration और लाइसेंस में अंतर होता है, अर्थात दोनों अलग अलग होते हैं | सामन्यतया यदि देखा जाय तोPoultry FarmGoat Farm या फिर Dairy Farm इत्यादि के लिए किसी प्रकार की कोई लाइसेंस की आवश्यकता नहीं होती | लेकिन चूँकि Poultry feed mill का business पक्षियों के स्वास्थ्य और विकास से जुड़ा हुआ business है, इसलिए इस बिज़नेस को करने के लिए सम्बंधित विभाग से License की आवश्यकता पड़ती है |

    Choose Location Carefully:

    उपर्युक्त वाक्य में हम बता चुके हैं, की Poultry Feed Mill स्थापित करने के लिए कौन सी Location पर जगह लेना लाभकारी हो सकता है | Location का चयन करते समय उद्यमी को   परिवहन व्यवस्था, बिजली सप्लाई, कर्मचारियों या मजदूरों की उपलब्धता का भी ध्यान रखना पड़ता है | इस Business को करने हेतु इतनी जगह चयनित की जानी चाहिए, की मशीनरी और उपकरणों को आसानी से Install एवम उनसे आसानी से काम लिया जा सके | इसके अलावा उद्यमी को Raw Materials और उत्पादित उत्पाद हेतु भंडारण की भी आवश्यकता होगी | ग्राहकों को बिठाने एवम Billing पैमेंट सम्बंधी कामकाज के लिए एक छोटे से ऑफिस की भी जरुरत होगी |

    Purchasing and installing of the Machinery:

    अब यदि उद्यमी ने Poultry feed mill business के लिए लोकेशन और जगह दोनों को चुनाव कर लिया हो, तो अगला Step उद्यमी के बिज़नस प्लान के आधार पर Machines एवम Equipments की खरीदारी और उनकी Installing का है |  मशीनों एवम उपकरणों की Installing   मशीन को बनाने वाली कंपनी या फिर मशीन को बेचने वाली कंपनी के Engineers द्वारा ही की जानी चाहिए | और उनसे मशीन को चलाने का Process अच्छी तरह पता करना चाहिए | ताकि भविष्य में मशीन को बनाने वाली कंपनी या फिर विक्रेता यह न कह सकें की आपने मशीन को गलत तरीके से हैंडल किया | मशीनरी एवं उपकरणों की वारंटी, गारंटी इत्यादि अच्छे ढंग से चेक करनी चाहिए | कहीं ऐसा न हो की Engineers हर विजिट में आके आपसे पैसे ले जा रहे हों | हाँ इसमें एक ध्यान देने वाली बात यह है की Machine और उपकरणों को Install करने से पहले Raw Materials और Manpower की व्यवस्था कर लेनी चाहिए, ताकि Machinery Install होते ही उद्यमी Poultry Feed  का उत्पादन शुरू कर सके |

    Production and Packaging:

    अब चूँकि उद्यमी ने अपने Poultry Feed mill business के लिए सारे संसाधन जुटा लिए हैं | इसलिए अगला कदम mill में उत्पादन को शुरू करना है | अपने उत्पाद को बाज़ारों में बेचने हेतु उद्यमी को मार्केटिंग Strategy तैयार करनी पड़ेगी | इसके अलावा Packaging और Branding भी उद्यमी के business को Grow करने में मदद करेगी | शुरूआती दिनों में बेहतर होगा की उद्यमी अपने क्षेत्र में स्थापित Poultry farms की मांगो पर ही ध्यान दें | और जैसे जैसे कमाई होने लगेगी उद्यमी अपने business को विस्तृत (Expand) करने की सोच सकता है | Packaging  करते समय Labeling पर विशेष ध्यान देना चाहिए, इसमें सारी details जैसे Feed की मात्रा, कीमत, Validity इत्यादि का ब्यौरा स्पष्ट रूप से लिखा होना चाहिए |

    Dairy industry – डेयरी उद्योग की जानकारी |

    भारतवर्ष में dairy udyog अर्थात dairy industry समय के साथ धीरे धीरे विस्तृत होती जा रही है | क्योकि अब लोगो का ध्यान व्यवसायिक तौर पर डेरी फार्मिंग की ओर आकर्षित हुआ है | और लोग व्यावसायिक स्तर पर भैंस पालनगाय पालन और बकरियों का पालन कर रहे हैं | पूरे विश्व की भैंसों की संख्या का लगभग 50% और कुल पशु आबादी का 20% पशुओं का पालन केवल भारतवर्ष में ही किया जाता है | और इनमे से अधिकतर पशु दूध देने वाले होते हैं | आज़ादी के बाद भारत milk deficit देश बन गया था |   भारत सरकार द्वारा संचालित operation flood नामक कार्यक्रम ने dairy udyog की तस्वीर बदल दी और dairy udyog  निरंतर विकास वाला क्षेत्र साबित हुआ |

    Dairy udyog ki importance:

    वित्तीय वर्ष 2006-2007 में देश में 94.6 मिलियन टन दूध का उत्पादन हुआ था | और 1993 से लेकर 2005 तक dairy udyog में प्रति वर्ष 4% की दर से growth हुई थी | जो की पूरे विश्व की dairy udyog की औसतन growth rate के तिगुनी थी | भारतवर्ष में अधिकतर तौर पर दूध का उत्पादन पंजाब, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, महाराष्ट्र, राजस्थान, गुजरात, आन्ध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु इत्यादि राज्यों में किया जाता है | वर्तमान में भारत की कुल GDP में dairy udyog और डेरी फार्मिंग की 4% की हिस्सेदारी है |

    India me milk production:

    वर्तमान में अपने देश में पूरे विश्व के दूध उत्पादन का लगभग 18.5% Milk का उत्पादन किया जाता है | जो भारतवर्ष को दूध उत्पादन करने के क्षेत्र में नंबर 1 देश बनाता है | भारतवर्ष में अब 146.3 मिलियन टन दूध का उत्पादन प्रति वर्ष होने लगा है | जबकि वित्तीय वर्ष 2013-14 में यह आंकड़ा 137.69 मिलियन टन था | जिसका मतलब हुआ की अब dairy udyog और डेरी फार्मिंग में प्रति वर्ष 6.26% के हिसाब से growth हो रही है | जो की विश्व की औसतन growth rate के दुगुनी है | जहाँ 1990-91 में प्रति व्यक्ति के हिसाब से दूध की उपलब्धता देश में 176 ग्राम थी | वही 2013 में यह आंकड़ा 294 ग्राम पहुँच गया था |

    Dairy udyog products:

    Dairy udyog की प्रोडक्ट लिस्ट में मुख्यतः दूध से बनने वाली वस्तुएं जैसे घी, पनीर, मक्खन, क्रीम, दही, केसिन, मिल्क पाउडर, आइस क्रीम इत्यादि आते हैं |
    dairy-udyog-products
    हालंकि इन प्रोडक्ट्स का निर्माण संगठित एवं असंगठित दोनों क्षेत्रो के द्वारा किया जाता है | लेकिन यदि हम ग्रामीण भारत की बात करें तो इनका निर्माण घरेलु तौर पर ही पारंपरिक विधि द्वारा किया जाता है | जबकि यदि व्यक्ति चाहे तो औद्यगिक रूप से भी इनका निर्माण करके अपनी Kamai और शानदार dairy udyog  स्थापित करके दूसरों को भी कमाने का मौका दे सकता है | आज भी भारतवर्ष में दूध उत्पादन का एक बड़ा हिस्सा उपर्युक्त प्रोडक्ट्स बनाने में लगाया जाता है | इसका मुख्य कारण यह है की आप दूध को लम्बे समय तक संचय करके नहीं रख सकते, जबकि dairy udyog द्वारा उत्पादित प्रोडक्ट को आप दूध के मुकाबले थोड़े लम्बे समय तक संचय कर सकते हैं |

    Dairy udyog kaha  khole:

    Dairy udyog डेरी फार्मिंग से जुड़ा हुआ व्यवसाय है | आपको इसके प्रोडक्ट बनाने के लिए कच्चे माल के तौर पर दूध की आवश्यकता होती है | इसलिए डेरी उद्योग ऐसे क्षेत्र में खोलना फायदेमंद हो सकता है | जहाँ दूध का उत्पादन प्रचुर मात्रा में किया जाता हो | चूँकि जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं की दूध को उसकी प्राक्रतिक अवस्था में अधिक समय तक रखना संभव नहीं होता | इसलिए बेहतर यही होता है की दूध को घी, खोया, मक्खन, क्रीम, पनीर इत्यादि रूपों में परिवर्तित कर दिया जाय |
    कोई व्यक्ति यदि dairy udyog स्थापित करना चाहता है | तो उसको किसी ऐसे क्षेत्र की तलाश करनी चाहिए जहाँ दूध का उत्पादन आपूर्ति से ज्यादा होता हो | ग्रामीण भारत में आपको कई क्षेत्र और गाँव ऐसे मिल जायेंगे | जहाँ दूध का उत्पादन आपूर्ति से अधिक किया जाता है | ग्रामीण क्षेत्रो में dairy udyog को आसानी से खोला एवं संचालित किया जा सकता है |

    इंश्योरेंस एजेंट बनकर कमाई कैसे करें |

    ऐसे शिक्षित लोग जिनकी अभिलाषा  Boss के अधीन काम न करके, Kamai करने की है | वे लोग  Insurance Agent बनकर, इस काम को Part time या फिर full time करके अपनी Kamai कर सकते हैं | चूँकि India में Insurance क्षेत्र से जुड़ा हुआ business एक बहुत बड़े पैमाने पर, किया जाने वाला बिज़नेस है | इसके अलावा इसके विस्तृत होने के आसार इसलिए हैं, क्योकि  अशिक्षा के आंकड़ो में गिरावट और शिक्षा के आंकड़ों में बढ़ोत्तरी होने से लोग अब Insurance का महत्व समझने लगे हैं |  और Insurance business में बढ़ती संभावनाओं को देखते हुए बहुत सारी कंपनियां इस क्षेत्र में प्रविष्ट कर चुकी हैं | इस बिज़नेस का एक बहुत बड़ा हिस्सा Insurance Agents पर निर्भर करता है | यही कारण है, की बहुत सारे agents यह काम करके अपने सपनो को उड़ान देकर अच्छी खासी Kamai कर रहे हैं | इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं की यदि कोई व्यक्ति अपनी Kamai करने हेतु Insurance agent बनना चाहता है, तो उसको किन किन प्रक्रियाओं से होकर गुज़रना पड़ेगा |

    Insurance agent kaun hai:

    Insurance-agents
    अक्सर आपने अपने किसी सगे समबन्धी को, आपसे या फिर आपके किसी और सगे संबंधियों से Insurance policy लेने के लिए बात करते एवं उनको बाध्य करते हुए सुना होगा | और यहाँ तक कहते हुए सुना होगा, की First Premium मैं अपने आप भर दूंगा, आप जब चाहे दे देना | क्या आपने कभी सोचने की कोशिश की, वह व्यक्ति ऐसा क्यों कह रहा है | वह इसलिए कह रहा है, क्योकि वह एक Insurance agent है | वह चाहता है की वह अपनी अधिक से अधिक Policy बेचे, ताकि उसकी Kamai भी अधिक से अधिक हो सके | क्योकि होता क्या है की किसी Insurance agent द्वारा बनाया गया ग्राहक जब भी अपना Premium भरता है, तब तब Insurance agent को इसका comissson मिलता है | आप सोच रहे होंगे की हम इस बिज़नेस  के बारे में कुछ नकारात्मक कह रहे हैं | लेकिन नहीं, हम तो आपको यह बताने की कोशिश कर रहे हैं, की यह Business करके कितनी, और कब तक Kamai की जा सकती है | हमारे भाई साहब जो एक दुकानदार भी थे, उन्होंने LIC का Agent बनकर खूब Policy बेचीं, और अच्छी खासी Kamai भी की | लेकिन अब थोड़ा समय में बदलाव आया है, अब लोग बिना agent अर्थात ऑनलाइन भी policy खरीद लेते हैं |

    Insurance Agent Kaise Bane:

    Insurance agent बनने के लिए किसी भी व्यक्ति को भारतीय बीमा विनियामक प्राधिकरण  (IRDA) द्वारा आयोजित परीक्षा में हिस्सा लेकर उस परीक्षा को पास करना होता है | जैसा की हम सब जानते हैं, India में बहुत सारी Insurance कंपनिया हैं | इसलिए Insurance agent बनने के लिए सर्वप्रथम किसी व्यक्ति को उस कंपनी का चुनाव करना चाहिए, जिसकी policy वह बेच सके | क्योकि ज्यादा पालिसी बेचने का मतलब है, ज्यादा Kamai करना | और उसके बाद इच्छुक व्यक्ति को चयनित कंपनी के किसी ब्रांच में जाकर उन्हें Insurance agent बनाने की इच्छा के बारे में बताना चाहिए | अब जब उनकी कंपनी द्वारा या फिर भारतीय बीमा विनियामक प्राधिकरण द्वारा परीक्षा आयोजित की जाएगी | आपको परीक्षा देने हेतु बुला लिया जायेगा या फिर आप स्वयं भी पता करके यह परीक्षा दे सकते हैं | लेकिन उससे पहले अपनी Eleigibility अवश्य चेक कर लें |

    Insurance Agent Banne ke liye eligibility:

    Insurance agent बनने हेतु आवेदन करने वाले व्यक्ति की आयु 18 साल से अधिक होनी चाहिए |
    व्यक्ति के पास स्नातक की डिग्री होनी चाहिए, वैसे कुछ कंपनिया 10th और 12th पास व्यक्ति को भी यह काम करने के  योग्य मानती हैं |
    Insurance agent बनने के इच्छुक व्यक्ति का भारतीय बीमा विनियामक प्राधिकरण (IRDA) या अन्य किसी Insurance कंपनी द्वारा आयोजित परीक्षा को पास करना अनिवार्य है |
    भारतीय बीमा विनियामक प्राधिकरण (IRDA) के अनुसार Insurance agent बनने के इच्छुक व्यक्ति को कम से कम 100 घंटे की व्यवहारिक training किसी IRDA द्वारा प्राधिकृत संस्थान से लेनी चाहिए |
    उसके बाद चयनित कंपनी का आवेदन पत्र भरकर, उसमे आवश्यकतानुसार सारे कागज़ संग्लन  करके, आवेदन पत्र चयनित कंपनी के प्राधिकृत अधिकारी के ऑफिस में जमा कराना चाहिए | यह आवेदन पत्र सबमिट करते वक़्त कुछ नाम मात्र का शुल्क भी देना पड़ सकता है |
    आवेदन जमा होने के बाद प्राधिकृत अधिकारी द्वारा व्यक्ति को Insurance agent का लाइसेंस दिया जायेगा | जिसकी वैधता मात्र 3 सालों के लिए होगी | व्यक्ति को इसका नवीनीकरण समाप्ति तिथि से पहला करवाना चाहिए |

    Ek Achhi Insurance Company kaise select kare:

    अच्छी Insurance कंपनी चयन करने से पहले Insurance agent बनने के इच्छुक व्यक्ति को पहले insurance के प्रकार का चयन करना चाहिए | साधरणतया Insurance को दो भागो में विभाजित किया जा सकता है | Life insurance और General insurance |

    Life Insurance:

    Life insurance से आशय उस insurance से है | जिसकी अवधी लंबी होती है | और इसमें दीर्घकाल तक निवेश किया जाता है | इस insurance का लाभ बीमित व्यक्ति की मृत्यु पर परिवारजनों को, या फिर policy की अवधि पूरा होने पर बीमित व्यक्ति को भी दिया जाता है |

    General Insurance:

    General insurance का आशय ऐसे insurance से लगाया जा सकता है, जिसका निर्धारण life insurance में नहीं किया गया हो | General insurance में मुख्यतः Health insurance, Automobile insurance, इत्यादि आते हैं | इस Insuarnce की संगरचना व्यवसायिक और व्यापार के मद्देनज़र की गई है |
    इसलिए सर्वप्रथम व्यक्ति को यह चयन करना पड़ेगा, की वह ग्राहकों अर्थात लोगो को क्या बेचेगा | Life insurance बेचेगा या फिर General insurance या फिर दोनों | क्योकि अलग अलग Insurance उत्पाद बेचने हेतु व्यक्ति को अलग अलग लाइसेंस की आवश्यकता होगी | उसके बाद Insurance agent को चाहिए की, वह बाज़ार में उपलब्ध विभिन्न insurance कंपनी जैसे LIC, Bajaj Allianz, ICICI Lombard, Tata AIG, National insurance, New India insurance,  HDFC Ergo, Max life insurance इत्यादि कंपनियों पर रिसर्च करे | और पता लगाये, की कौन सी कंपनी का कौन सा Insurance product अधिक पॉपुलर है | और फिर खुद का जायजा ले की क्या वह यह पॉपुलर उत्पाद अपने ग्राहकों को बेच पायेगा | हमेशा उस कंपनी का चयन करना चाहिए, जिस पर लोग आसानी से विश्वास कर सकें | और उसके अधिक से अधिक उत्पाद पॉपुलर हों |

    Safal Insurance Agent Banne ke kuch tips:

    • अपने ग्राहकों से वही वादे करने चाहिए, जो Insurance company वास्तव में दे रही हो | अधिकतर Insurance agent अपने टारगेट को पूरा करने के चक्कर में ग्राहकों से झूठ भी बोल दिया करते हैं | जिससे वे इस business में सफल नहीं हो पाते |
    • अपने आप को कंपनी के नए उत्पादों और Insurance क्षेत्र की नॉलेज के साथ अपडेट रखना चाहिए |
    • Insurance कंपनियों द्वारा आयोजित सेमिनार या कॉन्फ्रेंस में भाग लेना चाहिए | 
      एक Insurance agent को चाहिए की वह इन्टरनेट की तकनिकी के साथ अपडेट रहे | ताकि वह अपने बिज़नेस के लिए इन्टरनेट के माध्यम से भी ग्राहक पा सके |
    • यदि Insurance company का कोई सस्ता नया प्रोडक्ट आया हो तो, Insurance agent द्वारा उसे सोशल मीडिया या अन्य प्लेटफार्म के माध्यम से लोगों तक पहुँचाना चाहिए |
    India में अक्सर ऐसा होता है की लोग अपने सगे संबंधियों, मित्रों, रिश्तेदारों से ही Insurance policy खरीदते हैं | इसलिए एक Insurance agent के लिए जरुरी हो जाता है की वह अपने रिश्तेदारों, मित्रों का भी विश्लेषण करे की ऐसे कौन कौन से हैं, जिनके पास Insurance policy नहीं है | ताकि उन्हें वह अपनी पालिसी बेच सके |

    Sunday, 18 September 2016

    Mobile Recharge Business income- 10000-50000/month

    मोबाइल रिचार्ज बिज़नेस एक ऐसा बिज़नेस हे जो कोई भी कभी भी और कंही से भी कर सकता हे कुछ लोग सोचते हे की मोबाइल रिचार्ज बिज़नेस में इतनी इनकम नहीं हे पर एक तरह से देखा जाये तो इसमे काफी अच्छी इनकम हे ! और वो इनकम आप कैसे कर सकते हे आज में आपको बताऊंगा !
    मोबाइल रिचार्ज एक लो इन्वेस्टमेंट बिज़नेस हे जिसमे आप काम पूंजी लगा कर अच्छी इनकम कर सकते हो !
    यह बिज़नेस आप चार तरीको से कर सकते हे !
    में आपको चारो तरीको के बारे में बताऊंगा !
    रिटेलर,डिस्ट्रीब्यूटर,मास्टर डिस्ट्रीब्यूटर,रिचार्ज पोर्टल
    इस बिज़नेस में पहले आपको किसी अच्छी मोबाइल रिचार्ज कंपनी से जुड़ना होगा ! जो मोबाइल रिचार्ज सर्विसेस प्रोवाइड करती हो ! आज मार्किट में कई कंपनी हे जो मोबाइल रिचार्ज सर्विस करती हे ! पर कंपनी का फीडबैक जानने के बाद ही उस कंपनी से जुड़े !
    जैसे - www.bkcrecharge.net यह एक अच्छी मोबाइल रिचार्ज कंपनी हे जो लोगो को काफी अच्छा बिज़नेस प्रोवाइड करती हे !
    इसके प्लान बहुत ही अच्छे हे ! जिससे आप अच्छी एअर्निन्ग कर सकते हो
    1. Retailer Plan :- इस प्लान में आप मात्र 299/- रूपए देकर कंपनी से जुड़ सकते हो !बदले में कंपनी आपको मोबाइल रिचार्ज , dth रिचार्ज ,data card रिचार्ज ,इनश्योरेन्स पेमेंट ,लैंडलाइन बिल जैसी कई सुविधा उपलब्ध हे और 3% का कमीशन देती हे यदि आप ज्यादा बैलन्स लेते हो तो ज्यादा कमीशन मिलता हे जैसे कंपनी से आपने 1000 का बेलेन्स लिया तो कंपनी आपको 3% कमीशन के साथ 1030 का बेलेंस देगी जिसमे आप सभी प्रकार का रिचार्ज कर सकते हो!

    2. Distributor plan :- इस प्लान में आप मात्र 9999/- रूपए देकर कंपनी से जुड़ सकते हो !बदले में कंपनी आपको मोबाइल रिचार्ज , dth रिचार्ज ,data card रिचार्ज ,इनश्योरेन्स पेमेंट ,लैंडलाइन बिल जैसी कई सुविधा उपलब्ध हे और 3.5% का कमीशन देती हे यदि आप ज्यादा बैलन्स लेते हो तो ज्यादा कमीशन मिलता हे जैसे कंपनी से आपने 1000 का बेलेन्स लिया तो कंपनी आपको 3.5% कमीशन के साथ 1035 का बेलेंस देगी जिसमे आप सभी प्रकार का रिचार्ज कर सकते हो !इस प्लान में आप अपने अंडर में अनलिमिटेड रिटेलर बना सकते हो 1 रिटेलर बनाने पर कंपनी आपको 200/- रु. का कमीशन भी देती हे आप अपने अंडर के रिटेलर को बैलेंस भी ट्रांसफर कर सकते हो ! उनका कमीशन भी सेट कर सकते हो ! जैसे आपको 3.5% कमीशन मिलता हे तो आप उनको 2.5% दे सकते हो इस तरह आप 1% कमीशन अपने रिटेलर के रिचार्ज पर कमा सकते हो! इस प्लान में आप आसानी से 5000 -30000

    Total Distributor Monthly income
    20000 mobile recharge- 700/-

    20 retailer 200x20 - 4000/-
    20 Retailer Recharge comm. acording 2000 rs recharge- 12000/-

    Total Monthly income 16700/- First Month
    3.Master Distributor plan :- इस प्लान में आप मात्र  15999/- रूपए देकर कंपनी से जुड़ सकते हो !बदले में कंपनी आपको मोबाइल रिचार्ज , dth रिचार्ज ,data card रिचार्ज ,इनश्योरेन्स पेमेंट ,लैंडलाइन बिल जैसी कई सुविधा उपलब्ध हे और 4% का कमीशन देती हे यदि आप ज्यादा बैलन्स लेते हो तो ज्यादा कमीशन मिलता हे जैसे कंपनी से आपने 1000 का बेलेन्स लिया तो कंपनी आपको 4% कमीशन के साथ 1040 का बेलेंस देगी जिसमे आप सभी प्रकार का रिचार्ज कर सकते हो !इस प्लान में आप अपने अंडर में अनलिमिटेड रिटेलर or Distributor बना सकते हो 1 रिटेलर बनाने पर कंपनी आपको 200/- रु. का कमीशन भी देती हे! Distributor बनाने पर कंपनी आपको 4900/- रु. का कमीशन भी देती हे आप अपने अंडर के रिटेलर को बैलेंस भी ट्रांसफर कर सकते हो ! उनका कमीशन भी सेट कर सकते हो ! जैसे आपको 4% कमीशन मिलता हे तो आप उनको 2.5% दे सकते हो इस तरह आप 1.5% कमीशन अपने रिटेलर के रिचार्ज पर कमा सकते हो! इस प्लान में आप आसानी से 5000 -30000

    ओनलाईन शोपिंग वेबसाईट START ONLINE STORE Incom 10000-100000

    ई -कॉमर्स  बिज़नेस आज के समय का काफी फायदेमंद बिज़नेस हे इस बिज़नेस में कम समय में आप काफी अच्छी इनकम कर सकते हे ! ऑनलाइन ई -कॉमर्स  बिज़नेस के लिए आपको एक वेबसाइट रजिस्टर करना होगी या किसी कंपनी से ई -कॉमर्स वेबसाइट सॉफ्टवेर लेना होगा यदि आपकी कुछ रेक्विअरमेंट हे तो आप किसी वेब डिज़ाइनर को हायर करके भी अपनी वेबसाइट बनवा सकते हो ! आपको एक अपनी कंपनी का डोमेन भी रजिस्टर करना होगा जैसे -( www.example.com ) ध्यान रहे डोमेन ऐसा रखे जो लोग आसानी से याद रख सके और समझ सके !
      सबसे पहले ये डिसाइड कर लेवे की आप क्या ऑनलाइन सेल करना चाहते हे उसके बाद आप उसी चीज पर फोकस करे और अपने कस्टमर को अच्छी सर्विस देने की कोशिश करे! आपकी जितनी अच्छी सर्विस होगी आपसे उतने ही ज्यादा कस्टमर जुड़ेंगे और आपका बिज़नेस उतना ही ज्यादा चलेगा !
    जैसे आप ऑनलाइन क्लोथ्स सेलिंग का बिज़नेस स्टार्ट  कर सकते हे जिसमे आप शर्ट , टी -शर्ट ,जींस सेल कर सकते हे जिसमे  आप काफी मार्जिन कमा सकते हे !
    मल्टी वेंडोरे ई -कॉमर्स  बिज़नेस -आप मल्टी वेंडोरे इ-कॉमर्स बिज़नेस भी शुरू कर सकते हे सिंगल वेंडोरे और मल्टी वेंडोरे में इतना फर्क रहता हे की सिंगल वेंडोरे में केवल एक ही पर्सन उस वेबसाइट पर बेच सकता हे परन्तु मल्टी वेंडोरे में कई पर्सन एक ही वेबसाइट पर सेल कर सकते हे जैसे -  amazon.com ,flipcart.com etc.
    आप मल्टी वेंडोरे वेबसाइट शुरू करके कई सेलर को उस वेबसाइट से जोड़ सकते हो और उनकी सेलिंग पर कमिशन ले सकते हे !

    कुछ बातो का ध्यान रखे  मार्केटिंग बहुत जरुरी हे बिना मार्केटिंग के बिना आपका बिज़नेस बिलकुल नहीं चल पाएगा मार्केटिंग के लिए आप कई तरीके यूज़  कर सकते हे जैसे - गूगल एड वर्ड , सोशल मार्केटिंग , न्यूज़ पेपर मार्केटिंग , बल्क sms  etc . जितनी अच्ची आपकी मार्केटिंग होगी आपका बिज़नेस उतना ही ज्यादा चलेगा और आपको उतनी ही ज्यादा इनकम होगी  
     
    ई -कॉमर्स  बिज़नेस एक ऐसा बिज़नेस हे जिसमे आप कम समय में लाखो कस्टमर से जुड़ सकते हे और कम समय में ज्यादा इनकम कर सकते हे बस आपको इस बिज़नेस में सर्विस का और मार्केटिंग का विशेष ध्यान रखना होगा !
    में आपको कुछ वेबसाइट के बारे में बता रहा हु जंहा से आप अपना  ई -कॉमर्स सॉफ्टवेर खरीद सकते हे

    सिंगल वेंडोर- 1. www.shopify.com
    2. www.zencommerce.in
    3.  www.kartrocket.com
    4. www.godaddy.com
    यहाँ से आप अपने जरुरत के हिसाब से वेबसाइट रजिस्टर कर सकते हे अगर आप के पास ज्यादा पैसे नहीं हे तो आप मंथली पेमेंट का प्लान भी सिलेक्ट कर सकते हे !
     


    मल्टी वेंडोर- 1. www.cuptask.com
    2. www.shopgoon.com
    यहाँ से आप अपने जरुरत के हिसाब से मल्टी वेंडोर वेबसाइट रजिस्टर कर सकते हे अगर आप के पास ज्यादा पैसे नहीं हे तो आप मंथली पेमेंट का प्लान भी सिलेक्ट कर सकते हे ! 
    यह वेबसाइट आपको वेबसाइट के साथ एंड्राइड एप्लीकेशन भी प्रोवाइड करती हे जो आपके बिज़नेस के लिए बहुत जरुरी हे !

    घर में पड़ी ये चीजें आपको बना सकती हैं लखपति, ऐसे पहचानें

    पुश्तैनी घरों और उनमें पड़े सामानों की लोग अक्सर अनदेखी करते हैं। कई बार उनको कबाड़ के भाव भी बेच दिया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि घरों में पड़े पुराने सामान भी आपको लखपति भी बना सकते हैं। हालांकि इसके लिए पारखी नजर होनी जरूरी है। ऐसे सामानों की असली कीमत तब मालूम चलती है, जब ये किसी एक्सपर्ट की नजर से गुजरते हैं। हम यहां ऐसी ही चीजों के बारे में बता रहे हैं, जो आपको घर बैठे रातोंरात अमीर बना सकते हैं...

    पुरानी किताबें
     
    पुराने घरों की सफाई के सबसे ज्यादा मुश्किल किताबों को लेकर होती है। लेकिन याद रखिए अगर कोई किताब खास है तो उसकी कीमत हर हाल में उसके प्रिंट पर छपी कीमत की कई गुना होगी। ऐसे में रद्दी वाले को कुछ रुपए किलो में पुरानी किताबें बेचने से पहले उलट-पलटकर जरूर देख लें।
     
    किताबों में ये होनी चाहिए खासियत
     
    -नवंबर 2014 में आई फोर्ब्स की रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया की सबसे महंगी किताब की मौजूदा कीमत करीब 5 करोड़ डॉलर (335 करोड़ रुपए) है। वहीं टॉप 10 किताबों में सबसे सस्ती किताब 80 लाख डॉलर की है। यकीन मानिए इनमें से कुछ किताबें पुरानी अलमारी, पुराने घर की सफाई के दौरान मिलीं थी।
    -ऐसी किताबों की ज्यादा कीमत मिलती हैं, जो रेयर हों यानी किताब की दूसरी कॉपी मार्केट में आसानी से उपलब्ध नहीं हैं।
    -ऐसी किताब जिसे किसी भी तरह से खास साबित किया जा सके। एंटीक एक्सपर्ट के मुताबिक कलेक्टर कीमत चुकाने के लिए वजह की तलाश करते हैं। ये वजह कुछ भी हो सकती है, जिसमें किताब की उम्र, उस पर किसी के साइन, उनका टॉपिक, उनके प्रजेंटशन का ढंग।
    -अगर किताब में किसी के हस्ताक्षर हों तो इससे कीमतें या तो काफी बढ़ती हैं या काफी घट जाती हैं। साइन करने वाला शख्स खास है या फिर आप उसे किसी खास कहानी से जोड़ सकते हैं तो किताब की कीमत कई गुना हो जाती है। 

    पुराने जमाने के डिजाइन वाले आर्ट वर्क
     
    घर की सफाई के दौरान कई बार ऐसे आइटम मिलते हैं, जिन्हें आपके बड़े बुजुर्गों ने अपने दौर में खरीदा था। इसमें आर्टफैक्ट से लेकर ब्रांडेड पेन, पुराने दौर की रोजमर्रा की जरूरत की चीजें शामिल हैं। एंटीक एक्सपर्ट के मुताबिक फैशन अपने आपको रिपीट करता है। ऐसे में समय-समय पर खरीददार ऐसे आर्ट वर्क की तलाश में रहते हैं। ओएलएक्स जैसी साइट्स पर ऐसे प्रोडक्ट लगातार बिक्री के लिए उपलब्ध रहते हैं, जिनकी आपको अच्छी कीमत मिल सकती है।
     
    ये होनी चाहिए खूबियां
     
    -ऐसे सामान जिनमें टूट फूट न हो।
    -ऐसे सामान जिन्हें रिस्टोर न कराया गया हो, यानी वो ओरिजनल हों।
    -अगर सामान के साथ कोई ब्रॉन्ड या नाम जुड़ा है तो कीमत कई गुना हो सकती है।
    -अगर आप अपने एंटीक में किए गए आर्ट वर्क को क्लासिफाइड कर सकें जैसे किसी खास शैली, खास समय या किसी अंदाज या एक्सपेरीमेंट। इससे आपको अपने सामान को एंटीक में बदलने में मदद मिलेगी।
     
    पुराने या खास नोट भी बना सकते हैं अमीर
     
    घर के बुजुर्गों में पुराने नोट या गड्डियां संभालकर रखने की आदत होती है। कभी कभार यह नोट कुछ वजहों से खास बन जाते हैं। इसकी वजह खास नंबर होते हैं या उनमें सेलेब्रिटीज के बर्थ-डेट छिपी होती है। ऐसे नोट आपको रातोंरात अमीर बना सकते हैं।
     
    इन खासियतों का रखें ध्यान
     
    -नोटों के नंबर पर किसी सेलेब्रिटी की जन्मतिथि यानी बर्थ-डेट छिपी हो सकती है। ऐसे नोट ईबे सहित कई प्लेटफॉर्म पर हजारों में बिकते हैं।
    -स्पेशल सीरीज वाले नोट बहुत कम लोगों के पास होते हैं। इनकी कीमत इस आधार पर तय होती है कि उस पर लिखा नंबर कितना खास है।
    -पुराने नोट हमेशा से ही खास कैटेगरी में रहे हैं। एक वेबसाइट पर एक रुपए का नोट कुछ समय पहले नोट 7 लाख रुपए में बेचा गया था। यह आजादी से पहले का नोट था, जिस पर उस समय के गवर्नर जे डब्ल्यू केली के साइन थे। इस नोट को ब्रिटिश इंडिया की ओर से 1935 में जारी किया गया था।
    -अगर कोई गवर्नर कम वक्त के लिए अपने पद पर रहा हो, तो उसके हस्ताक्षर वारे नोट की कीमत खुद ही बढ़ जाती है।
    -स्टार नोट-ये ऐसे नोट होते हैं, जहां किसी नंबर की जगह गलती से स्टार छप जाता है। इसलिए ये खास हो जाते हैं। इनकी डिमांड खासी ज्यादा होती है और ऑक्शन के दौरान ही इनकी असली कीमत सामने आती है।
     
    लाखों में बिकते हैं सिक्के
     
    हो सकता है कि आपके पुश्तैनी घर में पुराने और यूनीक सिक्के रखे हों, जिनके लिए लोग लाखों-करोड़ों देने को तैयार रहते हैं। हालांकि ज्यादातर लोगों को इन पुराने सिक्कों की वैल्‍यू के बारे में पता नहीं होता और वह इसे कबाड़ समझकर हटा देते हैं। जबकि इन सिक्कों को ऑक्शन वेबसाइट या विदेशी क्वाइन मार्केट में बेचने पर लाखों रुपए मिल सकते हैं।
     
    4 लाख रुपए में बिका 100 रुपए का पुराना सिक्का
     
    भारत सरकार ने साल 1981 में 100, 150 रुपए के सिल्वर क्वाइन जारी किए थे। आरबीआई ने बाद में यह सिक्के बनाने बंद कर दिए। इन सिक्कों के लिए क्वाइन कलेक्टर 40,000 रुपए से 4 लाख रुपए तक देने के लिए तैयार हैं। क्वाइन कलेक्टर आलोक गोयल ने भारत सरकार का 100 रुपए का सिल्वर क्वाइन लगभग एक साल पहले 4 लाख रुपए में बेचा था।
     
    अंग्रेजों के समय का क्वाइन बिका 6 लाख रुपए में
     
    ब्रिटिश इंडिया का साल 1939 का सिक्का 6.50 लाख रुपए में बिका था। कोलकाता के एक परिवार के पास यह सिक्का था, जो उनके दादाजी ने लंदन से खरीदा था। ये सिक्का रेयर था और अब इस कैटेगरी के 10 से 12 क्वाइन ही बचे हैं। ये सिक्का अब भारत में देखने को नहीं मिलता। इस सिक्के को लंदन के क्वाइन मार्केट में 6.50 लाख रुपए में बेचा गया। कुछ साल पहले हांगकांग के क्वाइन मार्केट में इसी क्वाइन की बोली 8 लाख रुपए लगी थी।
     
    कैसे और कहां बेच सकते हैं पुराने सिक्के
     
    ईबे, मेल्कॉम टॉडीवाला जैसी कुछ कंपनियां पुराने सिक्कों का ऑक्शन करती हैं। यहां आप अपने पुराने सिक्के बेच सकते हैं। इसके अलावा लंदन, जर्मनी, हंगरी, फ्रांस जैसे देशों की क्वाइन मार्केट में पुराने सिक्के ऑनलाइन बेच सकते हैं। ऑनलाइन मार्केट के साथ-साथ हांगकांग, चीन में बीजिंग, गुआनझाओ की क्वाइन मार्केट में यह सिक्‍के बेचे जा सकते हैं। एजेंट के जरिए भी पुराने सिक्‍कों की बिक्री होती है। एजेंट के जरिए बेचने पर उन्‍हें कमीशन देना होता है।
     
     
     
    इन्‍वेस्‍टमेंट का अच्छा जरिया     
     
    पुराने सिक्‍के, नोट, एंटीक्स, किताब इन्‍वेस्‍टमेंट के अच्छे टूल हैं। इसमें बीते 12-14 सालों में अच्छी ग्रोथ हुई है। पुराने सिक्कों का ऑक्शन कराने वाली कंपनी मेल्कॉम टॉडीवाला के मुताबिक कुछ रेयर सिक्कों की तीन से चार साल में कीमत डबल हो जाती है। हालांकि, सभी सिक्कों पर ऐसा नहीं होता। ऑक्शन कंपनी मरुधर आर्टस के मुताबिक मुगल समय के जहांगीर के सिक्के 3 से 10 लाख रुपए में बिके।